Headlines

लालू के बेटे को थप्पड़ मारने वाले को मिलेगा एक करोड़ का इनाम वाकयुद्ध का दौर चल रहा है बिहार में

लालू के बेटे को थप्पड़ मारने वाले को मिलेगा एक करोड़ का इनाम वाकयुद्ध का दौर चल रहा है बिहार में

अशरफ अस्थानवी

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े पुत्र और राज्य के पूर्व स्वस्थ्य मंत्री तेज प्रताप के विवादित बयान पर राजनितिक गलियोरों में बबाल मच गया है और सत्ता धारी जदयू तथा विपक्ष की पार्टी आरजेडी के नेताओं के बयान से वाकयुद्ध का दौर चल रहा है हालाँकि राजद अध्यक्ष लालू यादव ने उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को भरोसा दिलाया हैं कि वो निश्चिन्त होकर अपने बेटे को शादी करें उनका बेटा तेजप्रताप यादव कोई हंगामा नहीं करेंगे. लालू ने गुरुवार को रांची में चारा घोटाले मामले में गवाही देकर लौटते समय पटना में पत्रकारों से कहा कि मेरे घर का लड़का किसी को मारने पीटने नहीं जाएगा. उन्होंने कहा कि वह लोग मारने पीटने को राजनीति नहीं करते इसलिए सुशील मोदी को निश्चित होकर शादी की तैयारी करनी चाहिए. लेकिन बबाल थमने का नाम नहीं ले रहा है उल्लेखनीय है की बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तथा लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के बेटे की शादी में उनको घर में घुसकर मारने की धमकी दी,थी जिसके बाद उनकी चारों तरफ आलोचना हो रही है, लालू ने सफाई देते हुए कहा कि चिंता ना करें वो मारेगा नहीं, हम मारने की राजनीति नहीं करते।तेजप्रताप यादव के इस बयान से नाराज भाजपा के एक नेता ने तेज प्रताप को थप्पड़ मारने वाले को एक करोड़ रुपये का इनाम देने की घोषणा की है। भाजपा समर्थकों ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का पुतला जलाया, तो वहीं पार्टी की पटना यूनिट के मीडिया इन्चार्च अनिल साहनी ने तेज प्रताप को थप्पड़ मारने वाले को 1 करोड़ रुपये का इनाम देने की घोषणा की है। संजय ने कहा, ‘तेज प्रताप बिल्कुल अपने पिता का ही अनुसरण कर रहे हैं। अब तेज प्रताप को दिखाने दीजिए कि उनमें कितना दम है और वह सुशील मोदी के घर में घुस कर दिखाएं। ऐसा नहीं है कि तेज की नसों में खून दौड़ता है और बाकी लोगों की नसों में पानी।’ गौरतलब है कि तेज प्रताप ने कहा है कि वह सुशील मोदी के घर में घुसकर उन्हें मारेंगे। तेज ने कहा कि वह अगर सुशील मोदी के बेटे की शादी में जाते हैं तो वहां उनकी पोल खोल देंगे। उनके इस बयान पर जदयू के नेताओं ने भी नाराजगी जाहिर की और जेडी-यू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा कि लालू के बेटों को समझना चाहिए कि यह 1990 के दौर का जंगलराज नहीं है। राज्य में अब कानून का राज है। चलिए हम तेज प्रताप का चैलेंज स्वीकार करते हैं और वह शादी में आकर दिखाएं कि वह क्या कर सकते हैं। जब शहाबुद्दीन और अनंत सिंह जैसे लोग लाइन पर आ गए, तो तेज क्या हैं। जदयू नेता संजय सिंह ने भी गुरुवार को कहा था कि हमने भी चूड़ियां नहीं पहन रखी हैं, लालू के बेटे के शरीर में खून दौड़ रहा है तो हमारे शरीर में भी पानी नहीं है। मारकर तो दिखाएं। वहीं भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि पहले तो राबड़ी देवी ने पीएम मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक बयान दिया था और अब उनके बेटे ने सुशील मोदी को धमकी दी है। लालू यादव को अपने परिजनों के व्यवहार और बयानबाजी पर संज्ञान लेना चाहिए। राजनीतक विश्लेषक इस तरह के वाकयुद्ध को राजनीतक पतन करार दे रहे हैं और राजनीतिज्ञों को सभ्य और मर्यादित भाषा के प्रयोग का सुझाव दे रहे हैं ताकि राजनीतक मर्यादा और प्रतिष्ठा बची रहे तमाम नेताओं को व्यक्तिगत प्रहार से बचना चाहिए ये लोकतंत्र के हित में है