Headlines

हिन्दुओ के प्रेरणा श्रोत थे स्वामी विवेकानंद :योगी आदित्यनाथ

हिन्दुओ के प्रेरणा श्रोत थे स्वामी विवेकानंद :योगी आदित्यनाथ
(पूवाॅन्चल में योगी स्टार न्यूज टुडे )
यूपी -वाराणसी-जौनपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने कहा कि लक्ष्य की पूर्ति के लिए युवाओं को विकास की शीर्ष उचाईयों को छूना चाहिए था, मगर आज भी वे उससे वंचित है, और विष्वविद्यालय और महाविद्यालय केवल डिग्री बांटने का केंद्र न बनें। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज जौनपुर में वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वावधान में स्वामी विवेकानंद की जयंती पर आयोजित राष्ट्रीय युवा दिवस समारोह को बतौर मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज युवाओं के सामने बड़ी चुनौती है, एक सच्चा युवा चुनौती देखकर पलायन नहीं करता, बल्कि उसका सामना करते हुए अपने लक्ष्य को प्राप्त करता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नौजवानों को रोजगार से जोड़ने के लिए कौषल विकास योजना की शुरूआत की है, जो छात्र डिग्री प्राप्त किये हैं, वो भी बेकार पड़े हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेष में 9 महीनों के दौरान 6 लाख नौजवानों को पारंगत किया गया, जिसमें से 4 लाख पास हुए, और ढ़ेढ लाख को रोजगार दिया गया। उन्होंने कहा कि युवा स्वंम रोजगार देने वाला बने, रोजगार के लिए उसे कहीं भटकना न पड़े। उन्होंने प्रदेष के सभी शिक्षण संस्थाओं से नकल बिहीन कराने परीक्षा कराने की बात कहीं। मुख्यमंत्री ने किषानों की चर्चा करते हुए कहा कि अगर 22 करोड लोगों के चेहरे पर खुशहाली लानी है तो पहले किसानों को खुशहाल करना पड़ेगा, कितना अच्छा होता अगर हर महाविद्यालय में मिट्टी की जांच केंद्र स्थापित होती। उन्होंने कहा कि जिस तरह से हमने अपने शरीर की जांच कराते हैं, ठीक उसी तरह से हमें खेतों के मिट्टी की भी जांच करानी चाहिए। एक समाचार पत्र के बारे में उन्होंने कहा कि इन्होंने बिना किसी के कहें लोगों को मिट्टी परीक्षण के कार्य को बढ़ावा देने के लिए लोगों को जागरूक कर रहें हैं। उन्होंने कहा कि कितना अच्छा होता कि प्रदेश के हर इण्टर कालेज और महाविद्यालय में इसके लिए प्रयास करते तो प्रदेष के 2 करोड़ 45 लाख किसानों को स्वायल हेल्थ कार्ड मिल जाता। मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय को व्यवसाईक पाठ्य क्रम चलाने हेतू आगामी बजट में भरपूर धन देने का वादा किया। उन्होंने कहा कि भारत का आध्यात्मिकता से परिपूर्ण दर्शन विदेशो में स्वामी विवेकानंद की वक्तृता के कारण ही पहुँचा। प्रेरणा के अपार स्रोत स्वामी विवेकानंद की कही एक-एक बात हमें उर्जा से भर देती है। अपने अल्प जीवन में ही उन्होंने पूरे विश्व पर भारत और हिन्दुत्व की गहरी छाप छोड़ दी। भारतीय उपमहाद्वीप की यात्रा की और ब्रिटिश कालीन भारत में लोगो की परिस्थितियों को जाना, उसे समझा। बाद में उन्होंने यूनाइटेड स्टेट की यात्रा की जहां उन्होंने 1893 में विश्व धर्म सम्मलेन में भारतीयों के हिन्दू धर्म का प्रतिनिधित्व किया। शिकागो में दिया गया उनका भाषण आज भी लोकप्रिय है और हमें हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का आभास कराता है मुख्यमंत्री ने जौनपुर जिले के मुंगराबादषाहपुर के निवासी स्वा0 विनय त्रिपाठी की विधवा पूनम त्रिपाठी को पांच लाख रूपये की सम्मान स्वारूप सहायता का चेक प्रदान किया। ज्ञातब हो कि पूनम त्रिपाठी के पति विनय त्रिपाठी लूटेरों को पकड़ते समय लूटेरों की गोली से मारे गये थे, और दो लूटेरों को पकड़ लिया था। विष्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 डा0 राजाराम यादव ने मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि विष्वविद्यालय निरंतर प्रगत के पथ पर अग्रसर है। उन्होंने विष्वविद्यालय के लिए 11 करोड़ और भवन निर्माण हेतू 18 करोड़ रूपये की मांग की।