Headlines

बेगूसराय में अधिवक्ता के भाई की मौत पर बबाल, सड़क पर उतरे वकील संघ

बेगूसराय में अधिवक्ता के भाई की मौत पर बबाल, सड़क पर उतरे वकील संघ

    बेगूसराय(मो.कौनैन अली/स्टार न्यूज़ टुडे):शहर के वीणा नर्सिंग होम में ऑपरेशन के लिए भर्ती एक मरीज की संदेहास्पद मौत के बाद काफी शोर-शराबा मच गया. भाई की मौत के बाद पहुंचकर शोर मचा रहे अधिवक्ता पर नर्सिंग होम के कर्मियों ने हमला कर दिया. इसके बाद बड़ी संख्या में अधिवक्ता पहुंच गए. हो-हंगामा इतना बढ़ गया कि पुलिस को हस्तक्षेप करना पड़ा. नर्सिंग होम के स्टाफ का कहना है कि नर्सिंग होम में तोड़फोड़ का प्रयास किया गया. जो भी हो आरोप-प्रत्यारोप के बीच नर्सिंग होम घंटों हंगामा का केंद्र बना रहा.बताते चलें कि साहेबपुर कमाल थाना क्षेत्र के फुलमलिक निवासी रामबरन प्रसाद सिंह के पुत्र दयानंद पटेल (42) के संदेहास्पद मौत के बाद दयानंद पटेल का भाई अधिवक्ता चंद्र मोहन पटेल के साथ बेगूसराय अधिवक्ता संघ के सदस्य सड़क पर उतर गये.मिली जानकारी के अनुसार अधिवक्ता चंद्रमोहन कुमार के भाई दयानंद पटेल को पाइल्स के इलाज के लिए स्थानीय वीणा नर्सिंग में भर्ती कराया गया था, जहां उसकी मौत हो गई. अधिवक्ताओं ने आरोप लगाया है कि गलत इंजेक्शन देने के कारण उनकी मौत हो गई.इतना ही नहीं मौत की खबर सुन जब कोर्ट से अधिवक्ता प्रमोद कुमार अस्पताल पहुंचे तो वहां पहले से मौजूद डॉक्टरों ने उनपर जानलेवा हमला कर दिया. जिसके विरोध में जिला अधिवक्ता संघ सड़क पर उतर गया. बातचीत के दौरान अधिवक्ताओं ने जिला प्रशासन पर मामले की लीपापोती का आरोप लगाया है. अधिवक्ताओं ने कहा कि वकीलों पर सरेआम हमला होता है लेकिन पुलिस उन्हें बचाने में जुटी रहती है. अधिवक्तों ने जिला प्रशासन से दोषी डॉक्टरों को गिरफ्तार करने और मृतक के पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल बोर्ड गठन करने का मांग की है.

मौके पर पहुंचे  सदर डीएसपी मिथिलेश कुमार, नगर थाना अध्यक्ष सुनील कुमार सिंह, CO निरंजन कुमार को मामले को शांत कराने में काफी मशक्कत करनी पड़ी. इधर, अधिवक्ता गोपाल कुमार, विजय महाराज, प्रभाकर शर्मा, संजय महाराज, संजीत कुमार, अरविंद कुमार ने आरोप लगाया कि इस नर्सिंग होम के डाक्टर की लापरवाही के कारण मरीज की मौत हो गई. विरोध करने पर नर्सिंग होम के स्टाफ ने परिजन के साथ मारपीट की. उन्होंने पूरे मामले की जांच कराने की मांग करते हुए दोषी डाक्टर व नर्सिंग होम के संचालक की गिरफ्तारी की मांग की. उन्होंने चेतावनी दी कि प्रशासन ने निष्पक्ष जांच कर कार्रवाई नहीं की तो आंदोलन किया जाएगा.