Headlines

बढ़ते हुए सांप्रदायिक तनाव के बीच नीतीश ने दरगाह में हाज़री दी, बिहार में राष्ट्रपति शासन जैसे हालात- उदय नारायण चौधरी 

बढ़ते हुए सांप्रदायिक तनाव के बीच नीतीश ने दरगाह में हाज़री दी, बिहार में राष्ट्रपति शासन जैसे हालात- उदय नारायण चौधरी 

 अशरफ अस्थानवी

सांप्रदायिक शक्तियां बिहार में  अमन शांति के माहौल को ख़राब करने का कार्य कर रही हैं और सरकार के तमाम प्रयासों के बाद भी स्थिति यथावत बानी हुई है इस बीच राज्य में व्याप्त सांप्रदायिक तनाव  के दरम्यान  मुख्यमंत्री नीतीश कुमारी पटना की धरती के महान सूफी हज़रत मखदूम-ए-मुनअम पाक के मज़ार पर हाज़री दी और राज्य तथा देश में अमन शांति के लिए दुआ की, खानकाह मुनअमिअा के उत्तराधिकारी हज़रत सय्यद शाह शमीम मुनअमि ने भी इस मौके पर खुसूसी दुआ की 

उधर राज्य में बिगड़ी हुई विधि व्यवस्था पर चिंता प्रकट करते हुए जदयू के बाग़ी लीडर उदय नारायण चौधरी ने बिहार में राष्ट्रपति शासन की मांग कर डाली.  उन्होंने कहा है कि बिहार के हालात ठीक नहीं हैं और जल्द यहां राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिए। उन्होंने बीजेपी आरएसएस पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि इन लोगों ने ही बिहार में एेसी स्थिति ला दी है।

उदय नारयण चौधरी ने तेजस्वी यादव की ज़बरदस्त प्रशंसा की और कहा कि तेजस्वी में वो क्षमता है कि वो बिहार के अगले मुख्यमंत्री हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनने से कोई ताकत नहीं रोक सकती। उन्होंने चिंता जताते हुए कहा कि बिहार की स्थिति लगातार खराब होती जा रही है। एेसे में बिहार की चिंता करना सबका कर्तव्य है। इस तरह तो चुप नहीं रहा जा सकता।

उल्लेखनीय है कि  बिहार के कई जिलों में हो रही हिंसा और तनाव को लेकर राजनीति गरमा गई है, एक ओर जहां विपक्ष ने सरकार की विफलता पर प्रश्नचिन्ह लगाते हुए मुख्यमंत्री को लाचार करार दिया है तो वहीं सत्तापक्ष के  नेताओं ने भी पलटवार करते हुए कहा है कि हमें भी बिहार की चिंता है और जो कोई भी सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का प्रयास करेगा उसे माफ नहीं किया जाएगा।

बिहार में जारी साम्प्रदायिक हिंसा पर रोष प्रकट करते हुए प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने आर एस एस को ज़िम्मेदार करार दिया है तेजस्वी ने कहा कि संघ प्रमुख मोहन भगवत 15 दिनों तक बिहार में रहकर इस प्रकार की ट्रेनिंग दी है फ़लस्वरूप आज स्थिति भ्यावा हो गई है जिसके लिए मुख्यमंत्री स्वयं दोषी हैं