Headlines

पटना: ‘दीन बचाओ, देश बचाओ’ पटना के गांधी मैदान में उमड़ा लोगों का हूजुम |

पटना: ‘दीन बचाओ, देश बचाओ’ पटना के गांधी मैदान में उमड़ा लोगों का हूजुम |
पटना ( संवाददाता / स्टार न्यूज़ टूडे)
बिहार की राजधानी पटना के गांधी मैदान में ‘दीन बचाओ, देश बचाओ’ रैली का आज रविवार को आयोजन किया गया है। इमारत शरिया और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने संयुक्त रूप से इस्लाम और राष्ट्र को खतरे में बताते हुए सड़क पर उतरने का ऐलान किया था। गांधी मैदान में इस रैली में लाखों मुसलमानों के पहुंचने की उम्मीद जताई जा रही है।
तीन तलाक से लेकर कानून व्यवस्था की स्थिति, संविधान और इस्लाम पर खतरे के मुद्दों पर एआईएमपीएलबी और इमारत शरिया आक्रामक हैं और इन्हीं मुद्दों के विरोध में इस रेली का ऐलान किया गया है।
 
कार्यक्रम का उद्घाटन अमीर-ए- शरीयत मौलाना मोहम्मद वली रहमानी ने किया। कार्यक्रम का उद्देश्य हिन्दू-मुस्लिम सौहार्द और भाईचारे के खिलाफ खड़ी ताकतों के खिलाफ लोगों को सचेत करना है।
इमारत शरिया के नाजिम अनीसुर रहमान कासमी ने कहा कि यह एक गैर राजनीतिक कार्यक्रम है और आग्रह किया कि इसे राजनीति से जोड़कर न देखा जाए।
मौलाना उमरेन महफूज रहमानी ने कहा कि अररिया, फूलपुर और गोरखपुर में जनता ने केंद्र को तीन तलाक दे दिया है। उन्होंने कहा कि कौम कमजोरों की हिफाजत के लिए आगे आये। इस मौके पर अबू तालिब रहमानी ने कहा कि जिस का पिता मजबूत होता है उसके वंशज भी मजबूत होते है। उन्होंने आगे कहा कि 5 लाख मुस्लिम महिलाओं ने हस्ताक्षर कर केंद्र को सौंपा फिर भी तीन तलाक बिल को लाकर सारी मसाइल के हल निकालने का दावा किया जा रहा।  हमे दीन और देश दोनों को बचाना है।
*देश के साथ-साथ इस्लाम पर भी खतरा*
बोर्ड के महासचिव मौलाना वली रहमानी ने कहा कि  ‘हमने चार साल इंतजार किया और सोचा कि बीजेपी संविधान के तहत देश चलाना सीख लेगी। उन्होंने आगे कहा कि मुसलमानों के पर्सनल लॉ पर हमला किया जा रहा है। हमें अपने लोगों और देशवासियों को बताना पड़ रहा है कि देश के साथ-साथ इस्लाम पर भी खतरा है।’
*सुरक्षा के किए गए पुख्ता इंतजाम*
कार्यक्रम के दौरान कोई अप्रिय घटना न हो इसके लिए बड़े पैमाने पर सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। सम्मेलन को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने के लिए 5000 सुरक्षाकर्मी, 300 दंडाधिकारी व 350 पुलिस पदाधिकारियों की तैनाती की गई है। एंबुलेंस के साथ चिकित्सक भी तैनात किए गए हैं।