Headlines

ट्रॉनिका सिटी के अपरेल पार्क औद्योगिक क्षेत्र में चल रही डाईंग फैक्ट्रियों को बंद कराने के संबन्ध में उप जिला अधिकारी श्री अमित पाल शर्मा जी को विज्ञापन सौंपा गया!

ट्रॉनिका सिटी के अपरेल पार्क औद्योगिक क्षेत्र में चल रही डाईंग फैक्ट्रियों को बंद कराने के संबन्ध में उप जिला अधिकारी श्री अमित पाल शर्मा जी को विज्ञापन सौंपा गया!

गाजियाबाद/ लोनी (यासीन सिददीकी स्टार न्यूज़ टुडे )9 मई

        ट्रॉनिका सिटी के अपरेल पार्क औद्योगिक क्षेत्र में जींस व कपडा रंगाई की 51 फैक्ट्रियां चल रही हैं। जबकि करीब 50 बनकर तैयार है एवं 50 निर्माणाधीन हैं। चल रही डाईंग फैक्ट्रियों से जहरीला रसायनयुक्त दूषित जल निकलता है। जिसकोे सर्वप्रथम फैक्ट्री के निजी ट्रीटमेंट प्लांट में शोधित किया जाना चाहिए उसके बाद औद्योगिक क्षेत्र के सीईटीपी  (कॉमन इफ्यूलेंट ट्रीटमेंट प्लांट) में पूर्णतया शोधित करने के बाद हिंडन नदी में डाला जाना चाहिए।
श्रीमानजी डाईंग फैक्ट्रियों का अनुमति से सात आठ गुना अधिक भूजल दोहन करने के बाद दूषित जल डिस्चार्ज कर रही हैं। डिस्चार्ज दूषित जल सात आठ गुना अधिक मात्रा में होने के कारण न ही फैक्ट्रियों के निजी ट्रीटमेंट प्लांटों में शोधित हो सकता है और न ही सीईटीपी प्लांट में शोधित कर पानी संभव है। क्योकि सीईटीपी प्लांट की क्षमता प्रतिदिन 1.80 एमएलडी दूषित जल शोधन की है तथा उसी के अनुरुप अपरेल पार्क की सभी डाईंग फैक्ट्रियों को प्रतिदिन 1.25 एमएलडी जल डिस्चार्ज करने की अनुमति है, लेकिन फैक्ट्रियों से प्रतिदिन करीब नौ एमएलडी दूषित जल डिस्चार्ज किया जा रहा है। यह दूषिज जल अपरेल पार्क औद्योगिक क्षेत्र में खाली  भूखंडो, पार्कों एवं सड़कों पर लबालब भरा हुआ है। जबकि सीईटीपी प्लांट से भी दूषित जल को शोधित किए बिना ही जावली नाले में बहाकर सीधा हिंडन नदी में डाला जा रहा है। जिसके कारण अपरेल पार्क औद्योगिक क्षेत्र के साथ बसे अगरौला, दुगरावली, पंचलोक एवं पाबी गांव एवं आस पास बसी कॉलोनियों का भूजल एवं जावली नाले के साथ बसे जावली, महमूदपुर, रिस्तल, सिकरानी आदि गांवोें का भूजल भी दूषित होता जा रहा है। जबकि ग्रामीण केंसर, लीवर, पीलिया, आंत्रशोध,चर्मरोग जैसी गंभीर संक्रामक बीमारियों की चपेट मेें आ गए है। अगरौला गांव में 18 केंसर पीडितों की मौत हो चुकी है।
श्रीमानजी गत दिनोें एक याचिका पर सुनवाई करने के बाद एनजीटी कोर्ट ने सीईटीपी प्लांट को मानकों के अनुरुप चलाने और जब तक वह न चले तब तक सभी डाईंग फैक्ट्रियों को बंद करने के आदेश दिए थे।

श्रीमानजी 30 अक्टूबर 2017 को यूपीएसआईडीसी ने सीईटीपी प्लांट का मानकों के अनुरुप संचालन करने के लिए  एसपीवी (स्पेशल परपज व्हिकल) अपरेल पार्क के उद्योगपतियों की समिति को हैं हैंडओवर कर दिया था। तभी से एसपीवी सीईटीपी कोे दिखावे मात्र के लिए चला रही है।

अत: निवेदन है कि कृपया इस प्रकरण की जांच कर अनुमति से अधिक दूषित पानी डिस्चार्ज कर क्षेत्रवासियों को मौत के मुंह में धकेल रही डाईंग फैक्ट्रियों को अविलम्अ बंद कराने तथा सीईटीपी प्लांट का संचालन कर रही एसपीवी के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई कर क्षेत्रवासियों को पुन: जीवन प्रदान करने का कष्ट करें।

यदि इन फैक्ट्रियों पर तत्काल बंद नहीं करा गया तो  भारतीय किसान यूनियन भानु  उत्तर प्रदेश का चक्का जाम करेगा

मुख्य रूप से उपस्थित रहे (वरिष्ठ राष्ट्रीय महासचिव) चौधरी अजित पवार (जिला अध्यक्ष) पं. सचिन शर्मा प्रदेश सचिव प्रवीण शर्मा सिरौली मास्टर राजकुमार गॉड धर्मेंद्र रावल जिला उपाध्यक्ष सोनू वर्मा महानगर अध्यक्ष चेतन ठाकुर तहसील अध्यक्ष लोनी तहसील अध्यक्ष बलराज कसाना सूबेदार बंसल राजकुमार आदिल पठान  आदि भाई उपस्थित रहे