Headlines

जीत गया राजद, हार गए नीतीश देश में हुए उपचुनाव में भाजपा की करारी हार

जीत गया राजद, हार गए नीतीश  देश में हुए उपचुनाव में भाजपा की करारी हार

अशरफ अस्थानवी

बिहार के जोकीहाट विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में राष्ट्रीय जनता दल ने नीतीश कुमार की जनता दल यूनाइटेड को हरा दिया है.

गत 28 मई को देश की 4 लोकसभा सीटों और 10 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के परिणाम आज घोषित कर दिए गए हैं अधिकांश परिणाम धर्मनिरपेक्ष   पार्टियों के पक्ष में गए हैं.  2019 में आम चुनाव होने हैं. इससे पहले इस उपचुनाव को 2019 का सेमीफाइनल माना जा रहा है. इससे जनता के रुख का काफी हद तक पता चल रहा है. ऐन डी ए के खिलाफ है ये जनादेश जनता ने नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ मत दिया है आने वाला समय भाजपा के लिए चुनौतियों भरा होगा  जिन 4 लोकसभा सीटों पर उपचुनाव हुए, उनमें यूपी की कैराना, महाराष्ट्र की भंडारा-गोंदिया व पालघर और नगालैंड की एकमात्र लोकसभा सीट शामिल है. अधिकांश पर धर्मनिरपेक्ष दलों को जीत मिली है

बिहार के एक मात्र जोकीहाट विधान सभा सीट पर सत्ता रूढ़ जदयू को करारी हार का सामना करना पड़ा है यहाँ राजद प्रतियाशी शनवाज़ आलम ने ४२ हजार से अधिक मतों से विजय प्राप्त कर नितीश कुमार की पार्टी को करारा झटका दिया है हालांकि नितीश कुमार और उनके मंत्री मंडल के तमाम सदस्य इस सीट को जितने के लिए पूरी शक्ति झोंक दी थी लेकिन उन की एक न चली जनता ने अपना मत राजद के पक्ष में दिया है

बिहार के जोकीहाट विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में राष्ट्रीय जनता दल ने नीतीश कुमार की जनता दल यूनाइटेड को हरा दिया है. राजद के शहनवाज आलम ने जदयू के उम्मीदवार मुर्शीद आलम को  41224 वोटों के अंतर से हरा दिया. इस तरह से देखा जाए तो नीतीश कुमार के लिए यह बड़ी हार है और यह किसी झटके से कम नहीं है. इस जीत के मौके पर तेजस्वी यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नीतीश कुमार पर जमकर हमला बोला और इस जीत को अवसरवाद पर लालूवाद की जीत करार दिया.

प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए तेजस्वी ने कहा यह अवसरवाद पर लालू वाद की जीत है. मैं फिर से दोहराना चाहूंगा कि यह अवसरवाद पर लालूवाद का विजय है. उन्होंने कहा कि नामी उम्मीदवार को जनता ने सबक सिखाया है. जनता ने नीतीश कुमार को सबक सिखाया है. तेजस्वी यादन ने कहा कि जनता ने यह देखा की नीतीश ने जनादेश का अपमान किया, इसलिए जनता ने नीतीश कुमार को सबक सिखाया है. नीतीश कुमार ने रामनवमी के दौरान जो तलवारें बंटवाने का काम किया, जनता ने आज उन्हें पुरस्कार देने का काम किया है. आज तलवार बांटने वालों की हार हुई है. उन्होंने कहा कि जनशक्ति ने धनशक्ति को हराया है. जितना जदयू को वोट आया, उससे ज्यादा के अंतर से हमारे नेता की जीत हुई है.

उक्त परिणाम पर राजनैतिक  विश्लेषकों का कहना है कि बढ़ती हुई महंगाई और नरेंद्र मोदी के तानाशाही और बढ़ती हुई साम्प्रदाइकता  के खिलाफ है ये मत. मोदी सरकार के लिए २०१९ का लोक सभा चुनाव चुनौतियों भरा होगा।