Headlines

सीट बंटवारे को लेकर भाजपा और जदयू में घमासान, नीतीश के लिए कठिन है 2019 का लोक सभा डगर

सीट बंटवारे को लेकर भाजपा और जदयू में घमासान, नीतीश के लिए कठिन है 2019 का लोक सभा डगर

अशरफ अस्थानवी
आगामी 7 जून को पटना में ऐन डी ए की बैठक होनी है जिस में तमाम घटक दलों को समिल्लित होना है बैठक से पहले ही आनन फानन में नीतीश कुमार ने एक अहम् बैठक बुलाई जिस में पार्टी के कद्दावर नेताओं ने भाग लिया मीटिंग के बाद जदयू के वरिष्ठ नेता पवन वर्मा का वक्तव आया है जिस में स्पष्ट रूप से कहा गया है के लोक सभा चुनाव में नीतीश कुमार ही ऐन डी ए के चेहरा होंगे दरअसल अब प्रेशर की पोलटिक्स हो रही है । लोकसभा चुनाव 2019 में होना है और एनडीए में अभी से ही सीट को लेकर टकराव शुरू हो गया है। एक तरफ जेडीयू नीतीश के चेहरे पर बिहार में चुनाव लड़ना चाहती है। तो वहींए बीजेपी ने ये साफ कह दिया है कि 2014 में जितनी सीट पर बीजेपी को जीत मिली थीए 2019 में उससे अधिक सीटों पर चुनाव लड़ेगी।
उपचुनाव में लगातार हार मिलने के बावजूद जदयू इस बात को मानने को तैयार नहीं है कि नीतीश की लोकप्रियता घटी है। अपने खास रणनीतिकार प्रशांत किशोर और वरिष्ठ नेता केसी त्यागी और पवन वर्मा के साथ नीतीश कुमार की लंबी बैठक के बाद रविवार को जिस तरीके से जदयू का बयान आया वह बीजेपी और एनडीए के लिए परेशानी करने वाला है।
पवन वर्मा ने साफ कहा कि बिहार में जो भी चुनाव होगाए उसमें पहले की तरह चेहरा नीतीश ही होंगे। दूसरी तरफ बीजेपी प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि 2014 में जितनी सीटें बीजेपी को मिली थी। उससे कम पर चुनाव लड़ने का सवाल ही नहीं है। बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि बिहार में बीजेपी का बेस बढ़ा है। इसलिए बीजेपी और अधिक सीटों पर दावा करेगी।
वहींए जदयू छोड़ने वाले पूर्व विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि नीतीश कुमार की साख समाप्त हो चुकी है। अभी भी समय हैए वे इस्तीफा दे देंगे तो कुछ लाज बच जाएगी।
बता दें कि पटना में 7 जून को एनडीए की बैठक है। यह तय माना जा रहा है कि बैठक में सीट शेयरिंग को लेकर चर्चा होगी। एनडीए के सहयोगी दल पहले से सीट को लेकर बयानबाजी कर रहे हैं। ऐसे में जदयू की तरफ से नीतीश के चेहरे पर चुनाव लड़ने की घोषणा ने एक नया विवाद शुरू कर दिया है। वहीं बीजेपी नरेंद्र मोदी के अलावा शायद ही किसी चेहरे पर लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए तैयार हो।
हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए के स्टार न्यूज़ टुडे फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
इसी बीच कल लोजपा के राष्ट्रीय अध्य्क्ष राम विलास पासवान ने कल भाजपा के राष्ट्रीय अध्य्क्ष अमित शाह से भेट कर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करने की मांग रखी इसी बिच राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्य्क्ष उपेंद्र कुशवाहा का कहना है कि ऐन डी ए में सब कुछ ठीक नहीं है समन्वय का अभाव है तमाम क्षत्रिय पार्टयों का स्तीत्व दाव पर लगा है सब से अधिक परेशानी सत्ता रूढ़ जदयू को है कियों के 2014 में इस के मात्र दो उमीदवार जीत कर लोक सभा पहुंचे थे