Headlines

विकास ने कराई इफ़्तार, खिदमत ए आवाम ने फिर पेश की भाईचारे की मिसाल

विकास ने कराई इफ़्तार, खिदमत ए आवाम ने फिर पेश की भाईचारे की मिसाल

गाजियाबाद/ लोनी  ( यासीन सिद्दीकी स्टार न्यूज़ टुडे )11 जून

दिल्ली – सामाजिक संगठन ख़िदमत ए आवाम युवा समिति आपसी सौहार्द और भाईचारे को मजबूत करने के लिए पहचानी जाती है वहीं जरूरतमंदों का सहारा बनने से भी नही चूकती इसी पहचान को समिति ने फिर मजबूत किया।
रविवार शाम ख़िदमत ए आवाम युवा समिति के दिल्ली प्रभारी विकास खनगवाल ने गंगा जमुनी इफ्तार आयोजित की जिसमे उन्हें परिवार का भी पूरा सहारा मिला।इस इफ्तार में तमाम जाति, मजहबो,दलों,ओहदे के लोगो को बुलाया गया।
विकास खनगवाल ने बताया इस तरह के कार्यक्रमो को करने में मेरी और मेरे परिवार की खास दिलचस्पी है और पिछले वक़्त में भी हम करते आ रहे है इस बार ख़िदमत ए आवाम युवा समिति के साथियों के साथ करके और भिन्न भिन्न संगठनों के सक्रिय लोगो की मौजूदगी में इसको करके एक अलग और खास अनुभव मिला।साथ ही उन्होंने बताया भविष्य में और मजबूती से इसको हम करेंगे।
समिति अध्यक्ष मार्टिन फैसल ने बताया जब नफ़रतें फैलने के लिए पुरज़ोर कोशिशें करें तो हमे भी मोहब्बतों को पूरी छूट दे देनी चाहिए, ये एक खास अनुभव था खासकर इसलिए क्योकि यही शब्द हमने तमाम इफ्तार में आये मेहमानों के मुँह से भी सुना जिनका कहना था ऐसी कोशिशों को होते रहना चाहिए।
साथ ही उन्होंने बताया इफ्तार के बाद अनाथालय के बच्चों के साथ बिताया वक़्त ने भी सभी साथियों को खूब सुकून दिया,ऐसी कोशिशें,ऐसे एहसास हमे ऐसे हर जरूरतमंदों को देते रहने चाहिए।
छात्रनेता नितेश हूडा ने बताया ये मेरे लिए नया अनुभव था लेकिन खास था और मुझे अफसोस है इतने खास लम्हे का हिस्सा होने में मुझे इतना क्यो वक़्त लगा।साथ ही उन्होंने बताया आगे से और मजबूती से ऐसी तमाम कोशिशों को हम मिलकर करेंगे जिससे सोहार्द मजबूत हो।
समिति महासचिव नौशाद सैफी ने बताया हर विशेष अवसर पर हमारी कोशिश रहती है किसी खास पैग़ाम के जरिये समाज मे बेहतर तब्दीली लाई जाये, आपसी दूरी जो बढ़ गयी है उसको खत्म कर नजदीकियाँ बुलंद की जाये जिसमे हमारी कोशिशों से हमे कामयाबी भी मिल रही है।
साथ ही उन्होंने मीडिया से बेहतर चीज़ों को खास तवज़्ज़ो देने की भी माँग की जिससे लोगो की सोच सकारात्मक बनें।
मौके पर खिदमत ए आवाम युवा समिति और अन्य संगठनों के सैकड़ो लोग मौजूद रहे।