Headlines

भोपाल पीरगेट  बोहरा समाज की  हुसैनी मस्जिद में रोज़ा अफ्तार में शामिल हुए। भोपाल कलेक्टर कमिशनर!

भोपाल पीरगेट  बोहरा समाज की  हुसैनी मस्जिद में रोज़ा अफ्तार में शामिल हुए। भोपाल कलेक्टर कमिशनर!

उबैदुल्लाह कुरेशी (स्टार न्यूज़ टुडे) 13 जून

राजधानी भोपाल में बोहरा समाज द्बारा  हुसैनी मस्जिद में हर साल पुरे 30 रमजान अफ्तार का आयोजन होता है
बोहरा समाज की हुसैनी मस्जिद में सोमवार शाम  रोज़ा अफ्तार में शामिल हुए भोपाल के वरिष्ठ अधिकारी कलेक्टर सुदामा खाडे, कमिशनर कविन्द्र कियावत , वरिष्ट पुलिस अधिकारी आई जी जयदीप प्रसाद, भोपाल डी आई जी धर्मेन्द्र चौधरी ,एस पी नार्थ हेमंत चौहान, एएस पी राजेश सिंह भदौरिया,  सभी ने बोहरा समाज के साथ रोज़ा अफ्तार करा एवं सभी का   स्वागत  करने के लिए आमिल सहाब जनाब  शेख अब्दे आबि तालिब  जमात की और से  शेख गुलाम अली  मेहंदी वाला एवं  शेख मुर्तजा  कपडा वाला ने सभी लोगो का स्वागत किया।
इस मोके पर सभी वरिष्ट अधिकरियों को  पुष्पगुच एवं शाल पहना कर सम्मान किया
एवं समाज के सभी लोगो ने अमन शांति के लिए दुआ मांगी

दाउदी बोहरा समाज के हकीमुद्दीन अब्बास समाज सेवक एवं पत्रकार हकीमुद्दीन ने स्टार न्यूज़ टुडे को जानकारी दी है  रमजान इस बार भी भीषण गर्मी के दौरान ही रहा। रोजे रखने वालों की सेहत न बिगड़े, इसे ध्यान में रखते हुए इस बार भी समुदाय के मुंबई स्थित मुख्यालय से डाइट मैन्यू भेजा गया है, जिसे आहार विशेषज्ञों की सलाह से तैयार कराया गया है। इसमें जानकारी दी गई है कि रमजान में सेहरी व इफ्तारी के दौरान किस तरह का संतुलित व पौष्टिक आहार लेें और पानी, शर्बत व अन्य ठंडे पेय का अधिक सेवन करें। इसमें जंक फूड को खाने की थाली से बाहर रखने की नसीहत दी गई है। समुदाय की परंपरा के अनुसार रमजान में दाउदी बोहरा समाज के लोग एक समय में एक जैसा भोजन करेंगे। भोजन भी ऐसा जो पौष्टिक तत्वों से भरपूर और संतुलित होगा। पूरे माह वे भोजन कैसा करेंगे, इसका मैन्यू समुदाय के धर्मगुरु के मुंबई स्थित मुख्यालय से जारी किया गया है। राजधानी की बोहरा समाज और शहर की अन्य स्थानों की कमेटियों ने इस मैन्यू को समाज की सभी मस्जिदों के जमातखानों व मोहल्लों की तंजीम कमेटियों को भेज दिया है, जिससे वह इस प्रकार का भोजन तैयार कर सकें। रमजान में समाज के सभी लोगों के अपने-अपने क्षेत्र की मस्जिदों के जमातखानों में जाकर ही भोजन करने की परंपरा है।