Headlines

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के वक्तव पर गरमाई बिहार की सियासत, नीतीश कुमार ने स्पष्ट रूप से कहा सम्प्रदायिकता बर्दाश्त नहीं करेंगे चाहे सरकार जाए या रहे।

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के वक्तव पर गरमाई बिहार की सियासत, नीतीश कुमार ने स्पष्ट रूप से कहा सम्प्रदायिकता बर्दाश्त नहीं करेंगे चाहे सरकार जाए या रहे।

अशरफ अस्थानवी
बिहार के फायरब्रांड भाजपा नेता गिरिराज के विवादित बयान पर बिहार की राजनीती गरमा गई है भाजपा नेता संजय पासवान और कई अन्य गिरिराज सिंह के समर्थन में उठ खड़े हुए हैं और नीतीश कुमार पर तुष्टिकरण की राजनीती करने का आरोप लगा रहे हैं जबकि राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस की कड़ी निंदा की है और स्पष्ट रूप से कह कि ‘ना हम किसी को बचा रहे हैं और ना ही फंसा रहे हैं’ केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह द्वारा दंगा आरोपी से मिलने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कड़े शब्दों में कहा कि यह मामला एक्सेप्टेबल नहीं है, किसी की गिरफ्तारी कानून के तहत होती है. किसी को लगता है कि गलत हुआ है, तो कोर्ट में जाएं, सरकार के इकबाल में कोई कमी नहीं आई है. सीएम ने यह बात लोकसंवाद के दौरान आज कही
साथ ही मंत्री गिरिराज सिंह द्वारा दिए बयान हिन्दुओं से हो रहे पक्षपात पर भी मुख्यमंत्री ने वगैर नाम लिए कहा कि आज समाज मे मर्यादाहीन वातावरण बनता जा रहा है. पूरे समाज का वातावरण बिगड़ता जा रहा है. हम पूरी ईमानदारी और बिना भेद के साथ काम करते हैं. आगे उन्होंने कहा कि हम किसी बिंदु पर समझौता नही करते हैं. हमारी सरकार कानूनी तौर पर काम करती है. ना हम किसी को बचा रहे हैं और ना ही फंसा रहे हैं. कोई बोलता है तो बोलते रहे. हम अपना जवाब एक्शन से दे रहे हैं.
विदित हो कि कल ही दिल्ली में हुई राष्ट्रिय कार्यकारिणी की बैठक में भी नीतीश कुमार ने पुरानी बातें दोहरायी थीं कि उनकी सरकार भ्रष्टाचार, अपराध और सांप्रदयिकता से समझौता नहीं करेगी, चाहे सरकार रहे या चली जाए. फिर वहीं बात आज उन्होंने उक्त बयानों को दे कर दोहराने की कोशिश की है.
विदित हो कि नवादा लोक सभा क्षेत्र के सांसद और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने दो दिन पूर्व नवादा में एक वक्तव में नीतीश कुमार की सरकार पर हिन्दुओं के साथ भेदभाव का आरोप लगते हुए कहा था कि बिहार पुलिस हिन्दू विरोधी है और नीतीश कुमार एक खास सम्प्रदाय को खुश करने के लिए हिन्दुओं के खिलाफ करवाई कर रहे हैं। वो अपने निर्वाचन क्षेत्र नवादा जेल में बंद बजरंग दल के नेता जितेंद्र प्रताप से मुलाकात के बाद सरकार पर बड़ा हमला बोला. उन्होंने जिला बजरंग दल के संयोजक जितेंद्र प्रताप जीतू और विश्व हिन्दू परिषद के जिला अध्यक्ष कैलाश विश्वकर्मा की गिरफ्तारी को लेकर सवाल खड़े किया और नीतीश सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि सरकार हिंदुओं को अपमानित कर रही है. उन्होंने कहा कि बजरंगदल के कार्यकर्ताओं को पुलिस द्वारा साजिशन गिरफ्तार कर जेल में डालने से हिंदुओं को उकसाने का काम किया जा रहा हैं. साथ ही उन्होंने बिहार पुलिस पर राजनीतिक दबाव में काम करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस हिंदुओं के संवैधानिक अधिकारों को हनन कर उन्हें जबरन जेल में डाल रही है, जो कि ठीक नहीं है.
गिरिराज सिंह ने संकेत देते हुए बताया कि किसी मुद्दे को लेकर आंदोलन करना और उसका सहयोग देना देश की आम जनता का संवैधानिक अधिकार है. मंत्री ने बिहार कि नीतीश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि यहां कि सरकार ने तो मन बना लिया है कि जबतक हिंदुओं को दबाया नहीं जाएगा तबतक सांप्रदायिक सौहार्द स्थापित ही नहीं होगा. उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा हिंदुओं को अपमानित कर राज्य में साम्प्रदायिक सदभाव की बात नहीं कही जा सकती. विदित हो कि 2017 में शहर में हुए तनाव के मामले में पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. इसके लिए गिरिराज ने जिला प्रशासन और पुलिस की निंदा की थी।